ज़ेलेंस्की ने मोदी को दी बधाई: कहा, दुनिया इसकी महत्ता जानती है, विश्व राजनीति में भारत का वजन है

Remove term: राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्कीRemove term: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीRemove term: लगातार तीसरी बार लोकसभा चुनाव जीताना लगातार तीसरी बार लोकसभा चुनाव जीतानाRemove term: एनडीए एनडीएRemove term: बीजेपी बीजेपीRemove term: स्विट्जरलैंड स्विट्जरलैंडRemove term: President Volodymyr Zelensky President Volodymyr ZelenskyRemove term: Prime Minister Narendra Modi Prime Minister Narendra ModiRemove term: winning Lok Sabha elections for the third consecutive time winning Lok Sabha elections for the third consecutive timeRemove term: NDA NDARemove term: BJP BJPRemove term: Switzerland Switzerland

नई दिल्ली: यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने लगातार तीसरी बार लोकसभा चुनाव जीतने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी। सोशल मीडिया पर एक पोस्ट में उन्होंने लिखा, ‘मैं प्रधानमंत्री मोदी, बीजेपी और बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए को लगातार तीसरी बार चुनाव जीतने के लिए बधाई देता हूं। इसके साथ ही उन्होंने विश्व परिप्रेक्ष्य में भारत के बढ़ते प्रभाव का जिक्र किया और कहा कि दुनिया भर में हर कोई भारत के महत्व को समझता है और सभी यह भी जानते हैं कि वैश्विक राजनीति में भारत का वजन है। ज़ेलेंस्की ने भी यही संदेश हिंदी में ट्वीट किया। इसके साथ ही इस संदेश में उन्होंने मोदी से यूक्रेन में युद्ध को लेकर स्विट्जरलैंड में होने वाली शांति वार्ता में शामिल होने का अनुरोध किया।

शांति वार्ता में भारत का आमंत्रण

गौरतलब है कि स्विट्जरलैंड में होने वाली शांति वार्ता में भारत को आमंत्रित किया गया था, लेकिन भारत के विदेश मंत्रालय ने यह स्पष्ट नहीं किया कि भारत शांति वार्ता में शामिल होगा या नहीं। हालांकि, ज़ेलेंस्की के अनुरोध के चलते भारत के विदेश मंत्री के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद थे।

जी-7 देशों में भारत के संबंध हर देश से अच्छे

पर्यवेक्षकों का कहना है कि उस वार्ता में भाग लेने वाले जी-7 देशों में से प्रत्येक के साथ भारत के अच्छे संबंध हैं। उन देशों के कई शासनाध्यक्षों के साथ मोदी के व्यक्तिगत संबंध हैं। यह भी संभव है कि पुतिन वार्ता में शामिल नहीं होंगे, लेकिन रूसी विदेश मंत्री शामिल होंगे। मोदी उन्हें मना सकते हैं। वे अमेरिका और फ्रांस के प्रतिनिधियों को भी मना सकते हैं। तो शायद यूक्रेन युद्ध से कोई रास्ता निकल आएगा। इसीलिए ज़ेलेत्स्की इस बात पर ज़ोर देते हैं कि उस सम्मेलन में नरेंद्र मोदी को भी मौजूद रहना चाहिए।

इससे पहले जब यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा पिछले मार्च में दिल्ली आए थे तो उन्होंने भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर से शांति सम्मेलन में शामिल होने पर जोर दिया था। हालांकि, उस वक्त जयशंकर ने ‘हां’ या ‘नहीं’ में जवाब नहीं दिया था। (लेकिन माना जा रहा है कि उस सम्मेलन में वह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दोनों शामिल होंगे)

यह सर्वविदित है कि ज़ेलेंस्की पिछले सप्ताह सिंगापुर में सबसे बड़े एशियाई सुरक्षा सम्मेलन में आश्चर्यजनक रूप से उपस्थित हुए थे। इसमें उन्होंने सीधे तौर पर चीन पर आरोप लगाया कि चीन यूक्रेन युद्ध में शांति स्थापित करने के लिए स्विट्जरलैंड में होने वाले सम्मेलन को बाधित करने की कोशिश कर रहा है। स्वाभाविक रूप से, चीन ने इस आरोप से इनकार किया है।

Related posts