सरकार ने घरेलू कच्चे तेल पर विंडफॉल टैक्स घटाया, इन कंपनियों को होगा खास फायदा

Remove term: विंडफॉल टैक्स घटाया विंडफॉल टैक्स घटायाRemove term: केंद्र सरकार केंद्र सरकारRemove term: पेट्रोल पेट्रोलRemove term: डीजल डीजलRemove term: अंतर्राष्ट्रीय स्तर अंतर्राष्ट्रीय स्तर

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने घरेलू कच्चे तेल पर विंडफॉल टैक्स घटाकर शनिवार से 5,200 रुपये प्रति टन कर दिया। यह पहले 5,700 रुपये प्रति टन था। सरकार ने नोटिफिकेशन जारी कर कहा कि नई दर 1 जून से लागू होगी। विंडफॉल टैक्स कम होने का सीधा फायदा घरेलू स्तर पर कच्चा तेल उत्पादन करने वाली कंपनियों जैसे ओएनजीसी और ऑयल इंडिया को मिलता है। पेट्रोल, डीजल और विमान ईंधन पर विंडफॉल टैक्स शून्य बना हुआ है।

15 दिन में समीक्षा की जाती है टैक्स की

सरकार द्वारा हर 15 दिन में कच्चे तेल पर लगने वाले विंडफॉल टैक्स की समीक्षा की जाती है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर चल रही कच्चे तेल की कीमतों के आधार पर ही विंडफॉल टैक्स को घटाया या बढ़ाया जाता है। पिछले कुछ महीनों में सरकार की ओर से कई बार विंडफॉल टैक्स में कटौती की गई है। इससे पहले 16 मई को सरकार ने कच्चे तेल पर विंडफॉल टैक्स 8,400 रुपये से घटाकर 5,700 रुपये प्रति टन कर दिया था। वहीं, 1 मई को इसे 9,600 रुपये से घटाकर 8,400 रुपये प्रति टन कर किया गया था।

1 जुलाई 2023 से विंडफॉल टैक्स लगाना शुरू हुआ था

कच्चे तेल की कीमत अचानक बढ़ने के कारण तेल कंपनियों को हो रहे अप्रत्याशित मुनाफे पर सरकार ने 1 जुलाई 2023 से विंडफॉल टैक्स लगाना शुरू किया था। कच्चे तेल के साथ, पेट्रोल, डीजल और विमान ईंधन के निर्यात पर भी विंडफॉल टैक्स लगाया गया है। विंडफॉल टैक्स लाने की एक वजह निजी तेल रिफाइनरियों को नियंत्रित करना था, जो अच्छे मार्जिन के कारण घरेलू बाजार में आपूर्ति को दरकिनार कर विदेशों में तेल निर्यात कर रही थीं।

Related posts