नीतीश कुमार और चंद्रबाबू ने मोदी सरकार को समर्थन देने के लिए क्या कहा?

नीतीश कुमार, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, किंगमेकर, टीडीपी-जेडीयू मंत्रालय की मांग, केंद्रीय मंत्रिपरिषद, जातीय जनगणना, चंद्रबाबू, मोदी जी, लोकसभा चुनाव 2024, जेडीयू, प्रधानमंत्री, Nitish Kumar, Chief Minister Nitish Kumar, Kingmaker, Demand of TDP-JDU Ministry, Union Council of Ministers, Caste Census, Chandrababu, Modi ji, Lok Sabha Elections 2024, JDU, Prime Minister,

टीडीपी-जेडीयू मंत्रालय की मांग: लोकसभा चुनाव 2024 के नतीजों के बाद अब बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार किंगमेकर की भूमिका में आ गए हैं। अब जेडीयू पार्टी बीजेपी के साथ बड़ी डील करने जा रही है। जेडीयू ने देश में जातीय जनगणना कराने और बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने के साथ-साथ केंद्रीय मंत्रिपरिषद में कम से कम पांच मंत्री पद की मांग की है।

बुधवार को प्रधानमंत्री आवास पर एक बैठक बुलाई गई

कहा जा रहा है कि नीतीश कुमार की नजर केंद्रीय कैबिनेट में रेलवे, कृषि और वित्त जैसे अहम मंत्रालयों पर है। इसमें रेल मंत्रालय को भी प्राथमिकता दी जा रही है। वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवास पर एनडीए की बैठक में शामिल होने के लिए बुधवार को दिल्ली पहुंचे।

नीतीश कुमार किंगमेकर की भूमिका में आ गये हैं

घोषित लोकसभा चुनाव नतीजों में एनडीए ने 292 सीटों पर जीत हासिल की है। हालांकि, इस बार बीजेपी बहुमत के आंकड़े 272 से पीछे रह गई और केवल 240 सीटें ही जीत पाई। ऐसे में देश में लगातार तीसरी बार सरकार बनाने के लिए पीएम मोदी को अपने सहयोगियों के समर्थन की जरूरत है। ऐसे में 12 सीटें जीतने वाले जेडीयू अध्यक्ष नीतीश कुमार किंगमेकर की भूमिका में नजर आ रहे हैं।

इस बीच जेडीयू के एक नेता ने कहा कि नीतीश कुमार ने बिहार के विकास को ध्यान में रखते हुए कैबिनेट में कुछ मंत्रालयों की मांग की है। ताकि बिहार के बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के क्षेत्र में तेजी से काम किया जा सके।

नीतीश कुमार देश में जाति गणना मॉड्यूल लागू करना चाहते हैं

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिहार के जाति गणना मॉड्यूल को पूरे देश में लागू करना चाहते हैं। जेडीयू केंद्र सरकार से देशभर में जातीय जनगणना कराने की मांग कर रही है। पिछले साल बिहार में जातीय जनगणना रिपोर्ट के आधार पर आरक्षण का दायरा बढ़ाकर 75 फीसदी कर दिया गया था। इसके अलावा नीतीश सरकार गरीब परिवारों को 2 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की योजना भी लाई।

बिहार में जल्द विधानसभा चुनाव की इच्छा

इसके अलावा जेडीयू के कुछ नेताओं ने भी सीएम नीतीश के सामने बिहार में जल्द विधानसभा चुनाव कराने की इच्छा जताई है। ताकि जेडीयू लोकसभा चुनाव में जीत का फायदा उठाकर विधानसभा में अच्छी स्थिति में पहुंच सके। बिहार में जेडीयू के पास फिलहाल सिर्फ 45 विधायक हैं जबकि सहयोगी बीजेपी के पास 78 विधायक हैं।

बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने पर जोर दे रहे हैं

लोकसभा चुनाव नतीजों के बाद से जेडीयू एनडीए को समर्थन देने के लिए बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग कर रही है। जेडीयू एमएलसी खालिद अनवर ने कहा कि बिहार के सामाजिक और आर्थिक विकास के लिए भारी मात्रा में धन की जरूरत है। यही कारण है कि जेडीयू बिहार के लिए विशेष राज्य का दर्जा और केंद्र से भारी फंड चाहती है।

टीडीपी क्यों चाहती है स्पीकर पद?

लोकसभा में स्पीकर का पद सबसे ताकतवर होता है, इसलिए टीडीपी स्पीकर का पद चाहती है। इतना ही नहीं, त्रिशंकु संसद की स्थिति में स्पीकर की अहम भूमिका होगी। दिवंगत पार्टी नेता जीएमसी बालयोगी 1998 से 2002 तक अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में अध्यक्ष भी रहे।

टीडीपी के एक सांसद ने कहा कि पार्टी ग्रामीण विकास, आवास और शहरी मामले, बंदरगाह और शिपिंग, सड़क परिवहन और राजमार्ग और जल शक्ति मंत्रालय चाहती है। वह वित्त मंत्रालय में एक कनिष्ठ मंत्री रखने के भी इच्छुक हैं। इसके अलावा आंध्र प्रदेश में भी टीडीपी को बहुमत मिल गया है और वहां भी फंड की सख्त जरूरत है।

Related posts