पंत की वापसी अविश्वसनीय, पंथ के एक्सीडेंट की खबर सुनकर मैं रो पड़ा…

भारत, सर्वश्रेष्ठ क्षेत्ररक्षक, टी20 वर्ल्ड कप, सर्वश्रेष्ठ फील्डर, India, Best Fielder, T20 World Cup, Best Fielder,

टी20 वर्ल्ड कप में हर मैच के बाद भारतीय टीम के सर्वश्रेष्ठ फील्डर को अवॉर्ड दिया जाता है। फील्डिंग कोच टी दिलीप प्रभारी हैं। उन्होंने रविवार को सर्वश्रेष्ठ क्षेत्ररक्षक के रूप में एक नये व्यक्ति को चुना।

नई दिल्ली। वनडे विश्व कप की तरह टी20 विश्व कप में भी प्रत्येक मैच के लिए टीम के सर्वश्रेष्ठ फील्डर का चयन किया जाता है। खेल के बाद ड्रेसिंग रूम में पदक दिये जाते हैं। रविवार को भारत-पाकिस्तान मैच में विकेटकीपर-बल्लेबाज ऋषभ पंत को यह मेडल मिला। टीम के पूर्व कोच रवि शास्त्री को पुरस्कार देने के लिए भारतीय ड्रेसिंग रूम में आमंत्रित किया गया था।

पंत की वापसी अविश्वसनीय

2022 टी20 वर्ल्ड कप के बाद एक कार दुर्घटना में पंत गंभीर रूप से घायल हो गए थे। ठीक होकर वह इस बार फिर से टी20 वर्ल्ड कप में देश की जर्सी में खेल रहे हैं। शास्त्री अपनी वापसी को लेकर उत्साहित हैं। पाकिस्तान मैच के बाद पंत को मेडल सौंपते हुए भारतीय टीम के पूर्व कोच ने कहा, ”पंथ के एक्सीडेंट की खबर सुनकर मैं रो पड़ा। मैंने अस्पताल का दौरा किया। वो सीन भी बहुत बुरा था। उस स्थिति से पंथ की वापसी अविश्वसनीय है। भारत-पाकिस्तान मैच में ऐसा प्रदर्शन! बहुत बढ़िया।”

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Team India (@indiancricketteam)

आपकी बल्लेबाजी के बारे में कहने को कुछ शेष नहीं

शास्त्री ने पंत की तारीफ करते हुए यह भी कहा, ”आपकी बल्लेबाजी के बारे में कहने को कुछ नहीं है। हर कोई जानता है कि आप कैसी बल्लेबाजी करते हैं।’ मैं कई बड़ी सर्जरी के बाद आपकी विकेटकीपिंग से आश्चर्यचकित हूं। विकेट के पीछे कितनी जगह आप अकेले संभाल रहे हैं। मैं समझता हूं कि आपने खुद को इस जगह पर वापस लाने के लिए कितनी मेहनत की है। आपका मौत के मुंह से वापस आना कई लोगों को प्रेरणा देगा। आपने जीत छीन ली। यह पदक आपके लिए उपयुक्त है।

प्रत्येक मैच के बाद भारतीय टीम के फील्डिंग कोच टीम के सर्वश्रेष्ठ फील्डर को पुरस्कार देने की व्यवस्था करते हैं। मोहम्मद सिराज ने यूएसए के खिलाफ सर्वश्रेष्ठ क्षेत्ररक्षक का पुरस्कार जीता। पंत को पाकिस्तान के खिलाफ उनकी बेहतरीन विकेटकीपिंग के लिए भारतीय टीम के कोचों ने चुना था।

Related posts