दुनिया भर से मोदी को बधाइयां मिलीं, पाकिस्तान ने शुभकामनाएं तो नहीं दीं, लेकिन बताया क्यों नहीं?

दुनिया भर से मोदी को बधाइयां मिलीं, पाकिस्तान, शुभकामनाएं, नरेन्द्र मोदी, मोदी पर पाकिस्तान, भारत में नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, Modi received congratulations from all over the world, Pakistan, good wishes, Narendra Modi, Pakistan on Modi, Narendra Modi in India, Prime Minister Narendra Modi,

भारत में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एनडीए सरकार तीसरी बार सत्ता में आ रही है। दुनिया भर से मोदी को बधाइयां मिल रही हैं। बड़े-बड़े नेताओं ने उन्हें बधाई दी है। लेकिन पाकिस्तान के मुंह से अभी तक एक भी शब्द नहीं निकला है।

नई दिल्ली।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में दिल्ली में एनडीए सरकार आएगी। लोकसभा चुनाव में बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए को बहुमत मिल गया है। दुनिया भर से नरेंद्र मोदी को बधाइयां मिल रही हैं। लेकिन भारत का पड़ोसी पाकिस्तान चुप है। वहां की मीडिया ने मोदी की जीत का विश्लेषण किया है। लेकिन सरकार के पास इस जीत पर बात करने और मोदी को शुभकामनाएं देने का समय नहीं है। लेकिन पाकिस्तान ने खुलासा कर दिया है कि उन्होंने शुभकामनाएं क्यों नहीं दीं।

विदेश मंत्री का बयान

पाकिस्तान ने अभी तक मोदी को कोई बधाई नहीं दी है। दुनिया भर के नेताओं ने मोदी को बधाई दी। फोन पर उनका स्वागत किया। स्थानीय मीडिया में इसकी व्यापक चर्चा होने के बाद पाकिस्तान की विदेश मंत्री मुमताज ज़हरा बलूच ने बयान दिया है। भारत की जनता को अपना नेता चुनने का अधिकार है। इस हिसाब से उन्हें ऐसा नेता चुनना चाहिए जो उनकी सरकार ठीक से चला सके।

मोदी सरकार का शपथ ग्रहण

मोदी सरकार का शपथ ग्रहण समारोह 9 जून को होगा। एनडीए ने लोकसभा में 293 सीटों पर जीत हासिल की है। उन्हें बहुमत मिल गया है। इस समारोह में पड़ोसी देशों के नेताओं को भी आमंत्रित किया गया है। बेशक इस सूची में पाकिस्तान का नाम नहीं है। समारोह में बांग्लादेश, भूटान, श्रीलंका, सेशेल्स, नेपाल के नेता शामिल होंगे। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना दिल्ली पहुंच गई हैं।

अभिवादन में कंजूसी क्यों?

विदेश मंत्री मुमताज बलूच ने भारतीय प्रधानमंत्री को अभी तक बधाई न देने की वजह बताई। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान भारतीय चुनाव प्रक्रिया पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता। नई सरकार का अभी तक शपथ ग्रहण नहीं हुआ है। उन्होंने कहा, इसलिए हमने इस सरकार को बधाई संदेश नहीं भेजा है।

पाकिस्तान अपने पड़ोसियों के साथ सहयोग और शांति की नीति बनाए रखना चाहता है। उनका कहना है कि सभी समस्याओं और मुद्दों का समाधान बातचीत से ही संभव है। मोदी सरकार में पाकिस्तान के प्रति नीति में भारी बदलाव आया है। सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से दोनों देशों के बीच रिश्ते तनावपूर्ण हैं। पिछले दस सालों में दोनों देशों के रिश्तों में उतार-चढ़ाव देखने को मिला है।

Related posts