राम मंदिर में पानी टपका या नहीं? मुख्य पुजारी के दावे पर निर्माण समिति ने बताई सच्चाई

राम मंदिर, पानी टपका, मुख्य पुजारी, निर्माण समिति, मुख्य पुजारी आचार्य सत्येन्द्र दास, मंदिर निर्माण समिति, अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्रा, मंदिर की छत से पानी टपक रहा, नृपेंद्र मिश्रा, बारिश, Ram temple, water dripping, chief priest, construction committee, chief priest Acharya Satyendra Das, temple construction committee, chairman Nripendra Mishra, water dripping from the roof of the temple, Nripendra Mishra, rain,

राम मंदिर के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येन्द्र दास ने दावा किया कि मंदिर की छत से पानी टपक रहा है। अब मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्रा ने इस पर सफाई दी है। उन्होंने बताया कि छत से पानी क्यों और कैसे टपकता है।

अयोध्या के राम मंदिर के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येन्द्र दास ने सोमवार को दावा किया कि मंदिर की छत से पानी टपक रहा है। कुछ ही देर में यह खबर हर जगह फैल गई। लोग मंदिर निर्माण की गुणवत्ता पर सवाल उठाने लगे। अब इस पर राम मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्रा ने सफाई दी है।

मंदिर की छत से टपका पानी?

नृपेंद्र मिश्रा ने कहा, ‘मैंने खुद मंदिर की पहली मंजिल से बारिश का पानी टपकते देखा है। इसके पीछे कारण यह है कि मंदिर की दूसरी मंजिल अभी निर्माणाधीन है, जिसके कारण इसकी छत पूरी तरह से उजागर हो गई है। तो पानी था और छत से टपकता भी था। इस तरह पानी खुले फर्श पर टपकेगा। लेकिन दूसरी मंजिल की छत अगले महीने के अंत तक बंद कर दी जाएगी। जिससे यह समस्या नहीं होगी।

नृपेंद्र मिश्रा ने कहा- गर्भगृह में कोई नाली नहीं

गर्भगृह में पानी के बारे में नृपेंद्र मिश्रा ने कहा- गर्भगृह में कोई नाली नहीं है, इसलिए पानी अपने आप सोख लिया जाता है। बाकी सभी मंडपों में ढलान और जल निकासी की व्यवस्था भी है। इसलिए वहां पानी जमा नहीं होता। लेकिन यहां पानी जमा हो रहा है। उन्होंने कहा कि मंदिर निर्माण समिति करोड़ों राम भक्तों को आश्वस्त करना चाहती है कि मंदिर निर्माण में कोई खामी नहीं है और कोई लापरवाही नहीं की गई है।

आचार्य सत्येन्द्र दास का दावा

सोमवार को मंदिर के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येन्द्र दास ने निर्माण में लापरवाही का आरोप लगाया। दावा किया जा रहा है कि यह दूसरी बार है जब मंदिर की छत से पानी टपका है। पहली बारिश में भी मंदिर की छत से पानी का रिसाव हो रहा था। उस समय भी उन्होंने विरोध किया और निर्जला हो गये।

आचार्य सत्येन्द्र दास ने कहा कि यह स्थिति तब है जबकि देश के बड़े-बड़े इंजीनियर राम लला के भव्य और दिव्य मंदिर के निर्माण में लगे हुए हैं। मंदिर की छत से गिरती पानी की बूंदें अद्भुत हैं। हालांकि, आचार्य सत्येन्द्र दास के विरोध के बाद ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने इंजीनियरों और अधिकारियों के साथ बैठक कर समस्या के समाधान पर चर्चा की।

राम पथ मार्ग भी धंसने लगा

वहीं, प्री-मानसून की हल्की बारिश से राम पथ की सड़क भी उफनने लगी है। सहादतगंज से नया घाट तक लगभग साढ़े 13 किलोमीटर लंबी इस सड़क का काम हाल ही में पूरा हुआ है। इन स्थानों पर गहरे गड्ढे थे।

हालांकि पीडब्लूडी ने सहादतगंज, हनुमानगढ़ी, रिकबागंज आदि सड़कों पर गड्ढे वाले स्थानों पर गिट्टी व मिट्टी डालकर निर्माण कार्य में बरती गई अनियमितता पर पर्दा डालने की कोशिश की है। इस संबंध में जब TV9 भारतवर्ष ने PWD अधिकारी डीबी सिंह से फोन पर बात की तो उन्होंने जवाब देने की बजाय कहा कि मैं मीटिंग में हूं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Speed News के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...

Related posts